Saturday, September 29, 2012

पेस्‍सी ग्राउंन्‍ड में संडे मस्‍ती




रविवार तीस सितंबर। पेप्‍सी ग्राउंउ में संडे-मस्‍ती।



IMG_7614IMG_7619               



..
IMG_7639
IMG_7621IMG_7624IMG_7618





IMG_7643IMG_7644

Wednesday, March 2, 2011

सीधी चप्‍पल उल्‍टी चप्‍पल।

जादू को पापा-मम्‍मा की चप्‍पलें पहननी बहुत पसंद हैं।
मम्‍मा के स्‍लीपर्स पहनकर सुबह सुबह जादू शरारत कर रहा था।
तभी की तस्‍वीरें।

उल्‍टी चप्‍पल IMG_9092 
अभी भी उल्‍टी चप्‍पल। IMG_9093सीधी हो गयी मम्‍मा की चप्‍पल।
IMG_9095सीधी चप्‍पल और 'सीधे-सादे' जादू जी
IMG_9096

Sunday, January 23, 2011

एक मज़ेदार सन्‍डे। खूब सारी मौज-मस्‍ती की तस्वीरें।

झूले की पींग पीछे की तरफ़। अहा। अहा। IMG_8517ज़ोर लगाके हईशा। दूसरी तरफ़ कोई था ही नहीं। फिर भी....हईशा। IMG_8520मैं अकेले झूला नहीं झूलता। मम्‍मा की निगरानी रहती है।
IMG_8522 सब कहते हैं कि मैं बहुत शरारती हूं। सब झूठ नहीं कहते।
IMG_8532और देखिए पापा से फ़रमाईश हो रही है कि अब वहां ले चलिए।
IMG_8547बहुत आराम हो गया। चलो खेलें।
IMG_8561शंकर अंकल की गोद में।
IMG_8565 कैसी लगी आपको मेरी तस्‍वीरें।

Friday, September 3, 2010

कान्‍हा 'जादू' की तस्‍वीरें

जन्‍माष्‍टमी के दिन मैं कान्‍हा बना था।
पता है कान्‍हा बनकर मैंने बहुत मस्‍ती की।
इन तस्‍वीरों से आप मेरी शरारतों का अंदाज़ा लगा सकते हैं।

3 45  86 10 11 12कान्‍हा 'जादू' की जन्‍माष्‍टमी के बारे में मेरे मुख्‍य ब्‍लॉग पर पढिये।

Sunday, May 16, 2010

किचन में जादू की कलाबाजियों की तस्‍वीरें


रसोई मेरी पसंदीदा जगह है। अपने मुख्‍य-ब्‍लॉग पर मैंने आपको बताया कि कैसे मैं  मौका पाकर रसोई में घुस गया और मैंने खोज-बीन शुरू कर दी। उस तरफ से बहुत खोज लिया, अब क्रिकेट की तरह साइड-चेंज करते हैं और इस तरफ से बैटिंग करते हैं।
8
मैंने उड़द की दाल का डिब्‍बा गिरा दिया है। लेकिन इसके बाद मेरी नज़र पड़ी है रोटी रखने वाले डिब्‍बे पर।
 9 10

अरे वाह। आम। वो भी हापुस (एलफान्‍सो) अब आयेगा मज़ा।

1112
पहले एक आम। फिर तीन-तीन आम। एक मम्‍मी का। एक पापा का और एक मेरा।
लेकिन ये तीनों मैं ही खा लूंगा। 

13 14

पता है इसके बाद क्‍या हुआ। इसके बाद मम्‍मा आ गयीं। और मुझे उठाकर रसोई से हॉल में ले जाया गया।

यानी खेल हो गया ख़त्‍म। पर मैंने हॉल में क्‍या किया। ये फिर किसी दिन बताता हूं।

मैं जादू हूं ना। मैं कुछ भी कर सकता हूं।

Saturday, May 15, 2010

ब्‍लॉगर्स-मीट में जादू के स्‍टंट

मैंने अपने मुख्‍य-ब्‍लॉग पर मुंबई में हुई ब्‍लॉगर्स-मीट के बारे में लिखा था। चूंकि मेरी रिपोर्ट लंबी हो रही थी इसलिए मैंने कुछ तस्‍वीरें नहीं लगाई थीं। जब ब्‍लॉगर्स-मीट की चर्चा ज्‍यादा 'भारी' हो गयी तो मैं बाहर आ गया और स्‍कूल की एक अच्‍छी-सी खिड़की देखकर उस पर चढ़ गया। नीचे एक धार्मिक-संगीत-संध्‍या की तैयारियां हो रही थीं। उन्‍हें निहारा। और अपने मन से कुछ मस्‍ती भी की। उसी की तस्‍वीरें।

आखिरी तस्‍वीर में आपको अभय अंकल दिख रहे हैं। जिनके हाथ में मेरा गिटार है।

  
 

Tuesday, March 30, 2010

हाईपरसिटी में जादू की हाईपर मस्‍ती

शॉपिंग तो हो गई अब चलें क्‍या । 

IMG_6146अरे मम्‍मी-पापा कहां चले गए मुझे यहां छोड़कर

IMG_6149
हम्‍म । तो ये बात है । ये पोज़ ठीक है ना ।

IMG_6148

चलो फिर से मुस्‍कुराएं   

IMG_6151

और ऐसे भी IMG_6153
जिसे आईसक्रीम चाहिए वो हाथ उठाए ।
 IMG_6154 आइसक्रीम तो खा लूं फिर घर चलूंगा भई ।

IMG_6155

खेल खत्‍म आइसक्रीम हज़म । चलता हूं ।